बड़ी ख़बरें

बिहार में नहीं थम रहा रेलवे अभ्यर्थियों का बवाल, गया में ट्रेन की तीन बोगियों में लगाई आग, परिचालन बाधित

                           

Railway Exam: उम्मीदवारों के विरोध के चलते NTPC और लेवल 1 परीक्षाओं पर रेलवे भर्ती बोर्ड ने लगाई रोक

               

गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बनीं भारत की पहली महिला राफेल विमान पायलट शिवांगी सिंह

                     

Weather Update: उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में अगले तीन दिनों में तीन से पांच डिग्री तक गिरेगा पारा

Home Authors Posts by admin

admin

4274 POSTS 0 COMMENTS

सचिन तेंदुलकर ने कहा, रोहित शर्मा और राहुल द्रविड़ की जोड़ी शानदार, आपके समर्थन में काफी लोग हैं

0

नई दिल्ली, भारतीय क्रिकेट में पिछले कुछ महीनों से काफी कुछ घटा है। विराट कोहली के टी20 विश्व कप से पहले इस फार्मेट की कप्तानी को छोड़ने की घोषणा के साथ ही यह सब शुरू हुआ था। बोर्ड की इच्छा के खिलाफ कोहली ने यह फैसला लिया इसके बाद उनको वनडे की कप्तानी से हटाया गया और आखिरी में उन्होंने टेस्ट की कप्तानी को भी छोड़ने का फैसला ले लिया। मुख्य कोच राहुल द्रविड़ और लिमिटेड ओवर के कप्तान रोहित शर्मा की जोड़ी नए युग की शुरुआत करने जा रही है।

विराट तीनों में से किसी भी फार्मेट की कप्तानी नहीं करेंगे। अब वह टीम में महज बल्लेबाज के तौर पर खेलेंगे। वनडे और टी20 की कमान रोहित के हाथों में है जबकि टेस्ट के कप्तान पर फैसला जल्दी ले लिया जाएगा। बीसीसीआइ की तरफ से कोच द्रविड़ और कप्तान रोहित को पूरा समर्थन हासिल है पूर्व भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने भी अपने हालिया इंटरव्यू में इस बात को कहा। बोरिया मजूमदार से बात करते हुए मास्टर ब्लास्टर ने कहा रोहित और राहुल दोनों ही कमाल हैं और टीम को इसका नतीजा भी देखने मिलेगा।

सचिन ने कहा, “रोहित और राहुल की जोड़ी बहुत ही शानदार है। मुझे इस बात पर पूरा भरोसा है कि यह दोनों ही अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे और अपनी काबिलियत की पूरी ताकत के साथ तैयार होंगे। आपके पीछे काफी सारे लोग समर्थन में खड़े हैं। इस समर्थन का सही वक्त पर होना काफी ज्यादा मायने रखता है।”

आगे उन्होंने कहा, “इसमें कोई शक ही नहीं कि सभी ने काफी सारी क्रिकेट खेली है। राहुल ने काफी क्रिकेट खेली है और उनके इस चीज की अच्छे से समझ है कि सफर के दौरान काफी उतार और चढ़ाव आने वाले हैं। किसी एक चीज के हो जाने से उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिए। हमें लगातार कोशिश करते रहना चाहिए और हम ऐसे ही आगे बढ़ते जाएंगे।”

UP Election 2022: सपा ने जारी की 56 प्रत्‍याशियों की तीसरी लिस्‍ट, दारा सिंह चौहान को घोसी सीट से दिया टिकट

0

लखनऊ, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर राज्‍य की विभिन्‍न दलों की ओर से प्रत्‍याशियों के नामों की घोषणा करने का सिलसिला लगातार जारी है। समाजवादी पार्टी ने गुरुवार को 56 प्रत्याशियों एक और सूची जारी कर दी। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर यह पार्टी के उम्मीदवारों की तीरी लिस्ट है। इस लिस्‍ट में इटावा से लेकर आजमगढ़ सीट तक के लिए उम्‍मीदवारों की घोषणा की गई है। इस लिस्ट में दारा सिंह चौहान का भी नाम है। उनको घोसी सीट से उम्‍मीदवार बनाया गया है। यूपी सरकार में मंत्री रहे दारा सिंह चौहान हाल ही में भाजपा छोड़ कर सपा में शामिल हो गए थे। सपा ने अब तक कुल 254 उम्मीदवार घोषित किए हैं।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी की ओर से अब तक प्रत्‍याशियों की तीन सूची जारी की जा चुकी है। पहली लिस्‍ट में 159, दूसरी सूची में 39 और तीसरी लिस्‍ट में 56 प्रत्‍याशियों के नामों की घोषणा की गई है। इस तरह समाजवादी पार्टी ने विधानसभा की कुल 403 में से अब तक 254 सीटों के लिए उम्‍मीदवार तय कर दिए हैं। यदि समाजवादी पार्टी गठबंधन की बात करें तो कुल 289 सीटें घोषित हो चुकी हैं। इनमें राष्ट्रीय लोकदल की 33, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के एक-एक प्रत्याशी शामिल हैं।

Shatila Ekadashi 2022: कल है षटतिला एकादशी, जानिए इस दिन क्या करने की है मनाही

0

Shatila Ekadashi 2022: कल षटतिला एकादशी है। हिंदी पंचांग के अनुसार, माघ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी मनाई जाती है। सनातन धर्म में एकादशी को शुभ तिथि की संज्ञा दी गई है। इस दिन भगवान श्रीहरि विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा उपासना की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि षटतिला एकादशी व्रत करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति और मरणोपरांत मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस एकादशी को पापहारिणी एकादशी भी कहा जाता है। इस दिन तिल दान या तिलांजलि करने का विधान भी है। इस व्रत के कई कठोर नियम भी है। इन नियमों का पालन करना अनिवार्य है। आइए जानते हैं कि षटतिला एकादशी के दिन क्या करें और किन चीजों को करने की मनाही है-

शास्त्रों में षटतिला एकादशी के दिन तामसिक भोजन करने की मनाही है। अत: इस दिन तामसिक भोजन का सेवन बिल्कुल न करें। साथ ही षटतिला एकादशी को लहसुन और प्याज युक्त चीजें न खाएं।

-एकादशी के दिन नॉन वेज चीजों का सेवन भूलकर न करें। ऐसा माना जाता है कि इन चीजों के सेवन से कामेच्छा बढ़ती है। इससे व्रत भंग होता है।

पंडितों का कहना है कि एकादशी के दिन बैंगन का भी सेवन नहीं करना चाहिए।

एकादशी के दिन सोमरस का सेवन बिल्कुल न करें। आसान शब्दों में कहें तो मदिरा या शराब का सेवन न करें।

-एकादशी के दिन सेम खाने की भी मनाही है। इसके लिए सेम भी न खाएं।

एकादशी व्रत करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। अतः सात्विक भाव से एकादशी का व्रत करना श्रेष्ठकर होता है।

क्या करें

एकादशी के दिन तुलसी का पौधा लगाना शुभ होता है। इसके लिए मोक्षदा एकादशी के दिन तुलसी का पौधा जरूर लगाएं। एक चीज का ध्यान रखें कि तुलसी का पौधा पूर्व की दिशा में लगाए।

-एकादशी को गेंदे का फूल लगाना भी शुभ होता है। साधक घर के उत्तर दिशा में गेंदे का फूल लगा सकते हैं।

-धार्मिक मान्यता है कि आंवले के पौधे में भगवान विष्णु जी वास करते हैं। अतः मोक्षदा एकादशी के दिन घर पर आंवले का पौधा लगाएं

Weight Loss Tips: जल्दी वज़न घटाना है तो इन 4 तरीकों से करें सौंफ का सेवन

0

नई दिल्ली, Weight Loss Tips: सौंफ सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होती है। इसके सेवन से पाचन, मेटाबॉलिज़म, बाल और त्वचा की सेहत में सुधार आता है। क्योंकि इसमें मूत्रवर्धक गुण होते हैं, इसलिए सौंफ के बीज शरीर से विषाक्त पदार्थों को ख़त्म करने में मदद करते हैं। सौंफ एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होती है, जो मुक्त कणों से लड़ते है। साथ ही यह शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को भी कम करते हैं, जो मधुमेह और मोटापे जैसी स्थिति पैदा कर सकता है। इसके अलावा सौंफ वज़न घटाने में भी मददगार साबित होती है। रोज़ाना अगर इसका सेवन किया जाए तो यह सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकती है।

इन 4 तरीकों से करें सौंफ का सेवन

सौंफ का पाउडर

एक मुट्ठी सौंफ लें और उसे अच्छी तरह से पीसकर पाउडर बना लें। इस पाउडर को आप किसी भी चीज़ में मिला सकते हैं, जिससे स्वाद बढ़ेगा। सौंफ के पाउडर का उपयोग ‘चूरन’ बनाने के लिए भी किया जा सकता है जिसमें मेथी के बीज, काला नमक, हींग और मिश्री जैसी सामग्री को स्वाद और बेहतर पाचन गुणों के लिए जोड़ा जा सकता है।

पानी

पानी के साथ सौंफ का सेवन आमतौर पर पेट में ऐंठन को कम करने और पाचन में सुधार करने के लिए किया जाता है। एक मुट्ठी सौंफ लें और उसे पानी से भरे गिलास में भिगो दें। इसे रात भर भिगोकर रहने दें और सुबह पी लें। यह शरीर में विटामिन और खनिजों के अवशोषण को बढ़ाता है और इस तरह वज़न कम करने में मदद करता है। सौंफ के पानी का एक गिलास सुबह और एक शाम को पीने से आपका वज़न तेज़ी से घटेगा।

चाय

सौंफ की चाय बनाना आसान है और इसमें ज़्यादा वक्त भी नहीं लगता, साथ ही इसे रोज़ पिया भी जा सकता है। चाय को उबालते वक्त एक चम्मच सौंफ डाल लें। इसमें आधा चम्मच गुड़ भी मिला सकते हैं।

भुनी हुई सौंफ

एक चम्मच सौंफ लें और उसे हल्की आंच पर भून लें। इस तरह की सौंफ में भीनी-भीनी खूशबू आती है, जो आपको पसंद आएगी। इसमें आप स्वाद के लिए मिश्री भी मिलाकर खा सकती हैं और इसे खाने के बाद खाएं जिससे पाचन बेहतर होगा। इसे खाने से आपकी कुछ मीठा खाने की चाह भी ख़त्म होगी। आप भुनी हुई सौंफ का पाउडर बनाकर भी इसका रोज़ सेवन कर सकते हैं।

Redmi Note 11 सीरीज की 9 फरवरी को भारत में लॉन्चिंग, ये 5G और 4G फोन्स देंगे दस्तक, यहां देखें लिस्ट

0

नई दिल्ली, Redmi Note 11 सीरीज को जल्द भारत में लॉन्च किया जाएगा। Redmi India ट्वीटर हैंडल से अपकमिंग स्मार्टफोन सीरीज Redmi Note 11 की लॉन्चिंग का ऑफिशियल ऐलान कर दिया है। फोन की लॉन्चिंग डेट का ऑफिशियल ऐलान नहीं किया गया है। लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि फोन को फरवरी माह के शुरुआत में लॉन्च किया जा सकता है।

रेडमी नोट 11 सीरीज के 4 स्मार्टफोन को चीन में लॉन्च कर दिया गया है। यह स्मार्टफोन हैं Redmi Note 11, Note 11S, Note 11 Pro 4G और Note 11 Pro 5G. Redmi Note 11 Pro 5G को तीन कलर- ग्रेफाइट ग्रे, पोलर व्हाइट, अटलांटिक ब्लू में लॉन्च किया है।

कीमत

  • Redmi Note 11 Pro
    1. 6GB+64GB वेरिएंट – $329 (लगभग 24,600 रुपये)
    2. 6GB+128GB वेरिएंट – $349 (लगभग 26,100 रुपये)
    3. 8GB+128GB वेरिएंट – $379 (लगभग 28,400 रुपये)
    • Redmi Note 11 Pro 4G 
    1. 6GB+64GB वेरिएंट – $299 (लगभग 22,400 रुपये)
    2. 6GB+128GB वेरिएंट – $ 329 (लगभग 24,600 रुपये)
    3. 8GB+128GB वेरिएंट – $349 (लगभग 26,100 रुपये)
    • Redmi Note 11 4G
    1. 4GB+64GB वेरिएंट – $179 (लगभग 13,400 रुपये)
    2. 4GB+128GB वेरिएंट- $199 (लगभग 14,900 रुपये)
    3. 6GB+128GB वेरिएंट – $229 (लगभग 17100 रुपये) है।
    • Redmi Note 11S
    1. 6GB+64GB वेरिएंट – $249 (लगभग 18,600 रुपये)
    2. 6GB+128GB वेरिएंट – $279 (लगभग 20,900 रुपये)
    3. 8GB+128GB वेरिएंट – $299 (लगभग 22,400 रुपये)

    Redmi Note 11 Pro 

    रेडमी नोट 11 Pro के 5G में 6.67-इंच फुल HD+ AMOLED डिस्प्ले दिया गया है। इसका स्क्रीन रिफ्रेस्ड रेट 120Hz है। फ्रंट में सेल्फी के लिए 16MP लेंस दिया गया है। फोन 67W फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ 5000 एमएएच की बैटरी पैक करते हैं। फोन 108MP रियर कैमरा सेटअप के साथ आता है। फोन में 8MP अल्ट्रावाइड कैमरा और 2MP मैक्रो कैमरा दिया गया है।Redmi Note 11 Pro 4G मॉडल में मीडियाटेक हीलियो G96 चिपसेट सपोर्ट दिया गया है।

  • Redmi Note 11 

    फोन स्नैपड्रैगन 680 चिपसेट के साथ आता है। फोन में 33W फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ 5000mAh बैटरी दी गई है। फोन क्वाड रियर कैमरा सेटअप के साथ आता है, जिसमें 50MP मेन कैमरा, 8MP का अल्ट्रावाइड कैमरा, 2MP का मैक्रो कैमरा और 2MP का डेप्थ सेंसर दिया गया है। सेल्फी के लिए 8MP का फ्रंट कैमरा मिलेगा।

    Redmi Note 11S

    Redmi Note 11S स्मार्टफोन में 6.43-इंच FHD+ 90Hz AMOLED डिस्प्ले दिया गया है। फोन मीडियाटेक हीलियो G96 प्रोसेसर और 8GB रैम सपोर्ट करता है। फोन 33W फास्ट चार्जिंग और 5000mAh बैटरी सपोर्ट के साथ आएगा। फोन क्वाड-कैमरा सेटअप के साथ आएगा। इसमें 108MP का मेन कैमरा सेंसर, 8MP का अल्ट्रावाइड कैमरा और डेप्थ और मैक्रो के लिए दो 2MP सेंसर हैं। डिवाइस में 16MP का फ्रंट कैमरा सेंसर है।

Khan Sir Patna: खान सर को लेकर मचा पटना में बवाल, जाने कौन हैं और क्‍या है मामला, पहले भी रहे विवादों में

0

पटना: खान सर का नाम इंटरनेट की दुनिया में जाना-पहचाना है। रेलवे भर्ती परीक्षा के परिणाम के विश्लेषण का उनका एक वीडियो वायरल (Video Viral) हो गया है, जिसमें वे परीक्षार्थियों को परीक्षा परिणाम के कथित गड़बड़ी की जानकारी दे रहे हैं। साथ ही अपने हक के लिए आंदोलन करने की बात कर रहे हैं। रेलवे के खिलाफ छात्रों के बड़े आंदोलन को लेकर प्रशासन ने इस वीडियो को उकसाने वाला माना है। पुलिस ने उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज (FIR Lodged) कर कार्रवाई शुरू कर दी है। सवाल यह है कि आखिर कौन हैं खान सर और क्‍या है उनकी खासियत? बड़ा सवाल यह भी कि उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पैदा हुए खान सर पटना वाले खान सर कैसे बन गए?

सरल भाषा और ठेठ बिहारी अंदाज के दीवाने हैं छात्र

बिहार के पटना में अपना कोचिंग सेंटर चलाने वाले खान सर इंटरनेट की दुनिया में जाना-पहचाना नाम हैं। उनके यू-ट्यूब चैनल ‘खान जीएस रिसर्च सेंटर’ (Khan GS Research Centre) की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसे करीब 1.45 करोड़ लोग फालो करते हैं। खान सर सामान्‍य अध्‍ययन व सम-सामयिक घटनाक्रम को सरल भाषा और ठेठ बिहारी अंदाज में ऐसे समझाते हैं कि छात्र उनके दीवाने हो जाते हैं। खान सर के इस यू-ट्यूब चैनल के वीडियो को लाखों व्‍यू मिलते हैं। उनके कई वीडियो के व्‍यू तो दो से तीन करोड़ तक पार कर चुके हैं।

जेल पर भी बना चुके वीडियो, अब जेल जाने की नौबत

खान सर का एक वीडियो जेलों को लेकर है, जो 4.4 करोड़ से ज्यादा बार देखा गया है। खास बात यह कि अब एफआइआर के बाद गिरफ्तारी होती है तो खान सर जेल का रियल टाइम अनुभव करेंगे। संभव है कि बाहर आने के बाद वे कोई नया वीडियो बना दें।

असली नाम पहेली, कहते हैं- नाम नहीं काम से पहचान

खान सर आखिर हैं काैन, इसपर तरह-तरह की बातें हवा में रहीं हैं। उनके असली नाम पर भी सवाल उठाए जाते रहे हैं। कुछ लोग उनका नाम फैसल खान बताते हैं तो कुछ उन्हें अमित सिंह कहते हैं। इसपर एक राय नहीं है। खान सर को लेकर यह सस्‍पेंस उनके खिलाफ दर्ज की गई पुलिस एफआइआर में भी कायम है। खान सर कहते हैं कि उनकी पहचान नाम नहीं काम से है।

सेना में जाने की इच्‍छा रही अधूरी, बाद में बने टीचर

जो भी हो, खान सर का जन्म दिसंबर, 1993 में उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में हुआ था। उनके पिता भारतीय सेना (Indian Army) में अधिकारी रहे, जो अब रिटायर हो चुके हैं। बड़े भाई सेना में कमांडो बताए जाते हैं। बताया जाता है कि खान सर भी शिक्षा के क्षेत्र में आने के पहले सेना में जाना चाहते थे। उन्‍होंने नेशनल डिफेंस एकेडमी (NDA) की परीक्षा क्लीयर भी कर लिया था, लेकिन हाथ थोड़ा टेढ़ा होने के कारण उनका फाइनल सलेक्‍शन नहीं हो सका। इसके बाद उन्‍होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय (Allahabad University) से बीएससी और एमएससी की डिग्री हासिल की। फिर छात्रों को प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कराने में लग गए।

खान सर का पहले भी रहता आया विवादों से नाता

खान सर का पहले भी विवादों से नाता रहा है। पहले भी वे समुदाय विशेष में ज्यादा बच्चे पैदा करने, पंक्चर बनाने तथा पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को देश से निकालने आदि अपनी टिप्पणियों को लेकर चर्चा में रह चुके हैं। उनके हिंदू या मुसलमान होने को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं।

बिहार में उग्र छात्र ट्रेन रोककर गाने लगे राष्ट्रगान, राहुल गांधी ने वीडियो ट्वीट कर लिखा-गणतंत्र था, गणतंत्र है

0

जहानाबाद: बिहार में रेलवे भर्ती बोर्ड (आरबीबी) की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणी (एनटीपीसी) परीक्षा के रिजल्ट को लेकर जारी हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। गया के करीमगंज के पास रेलवे ट्रैक पर खड़ी ट्रेन की छह बोगियों को बुधवार को छात्रों ने आग के हवाले कर दिया। वहीं पटना-गया रेल खण्ड के जहानाबाद स्टेशन पर सुबह सात बजे से छात्र रेलवे ट्रैक जामकर बैठ गए। इस दौरान छात्रों का अलग ही रंग देखने को मिला। हाथ में तिरंगा झंडा लेकर ट्रैक पर बैठे छात्र राष्ट्रगान गाने लगे। छात्रों का राष्ट्रगान गाता हुआ वीडियो कुछ ही देर में इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जहानाबाद स्टेशन का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, अधिकारों के लिए आवाज उठाने को हर नौजवान स्वतंत्र है, जो भूल गए हैं, उन्हें याद दिला दो कि भारत लोकतंत्र है। गणतंत्र था, गणतंत्र है!

छात्रों को खदेड़कर पुलिस ने भगाया

प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पुलिस ने शाम चार बजे खदेड़कर भगाया। इस दौरान पुलिस पर छात्रों ने पथराव भी किया। जवाब में पुलिस ने जमकर लाठियां चटकाईं। आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। फायरिंग की बात भी सामने आ रही है। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने इससे इनकार किया है। बुधवार की सुबह सात बजे से ही छात्रों ने अपनी मांगों को लेकर ट्रेनों का परिचालन बाधित कर दिया था। छात्रों का हुजूम देख पुलिस भी पिछले नौ घंटे से बड़ी कार्रवाई नहीं कर पा रही थी। लिहाजा यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। लोगों को यात्रा के लिए बस और आटो का सहारा लेना पड़ा।

छात्रों के भविष्य के साथ हो रहा खिलवाड़

रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन करते हुए छात्रों ने गया से पटना जा रही सवारी गाड़ी को जहानाबाद स्टेशन के समीप रोक दिया था। छात्रों द्वारा रेलवे भर्ती के ग्रुप डी में नियुक्ति के लिए दो परीक्षाओं के आयोजन के निर्णय से आक्रोश जताया जा रहा है। बुधवार को काफी संख्या में छात्रों ने जहानाबाद रेलवे स्टेशन पर पटना जा रही मेमू सवारी गाड़ी को स्टेशन पर रोककर सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। छात्रों का कहना था कि रेलवे के ग्रुप डी भर्ती में दो परीक्षा ली जा रही है, जो छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। इसका हमलोग शांतिपूर्ण विरोध कर रहे थे। पुलिस ने छात्रों पर बेरहमी से लाठियां चटकाईं, जिसमें कई छात्र चोटिल हो गए। आंसू गैस के गोले छोड़े गए। हवाई फायरिंग भी की गई। छात्रों ने कहा कि सरकार छात्रों पर तानाशाही रवैया अपना रही है।

उपेन पटेल की वो फ्लॉप फिल्म जिसपर मचा है हंगामा, Google के सीईईओ सुंदर पिचाई की भी बढ़ीं मुश्किलें

0

नई दिल्ली, जेएनएन। फिल्म मेकर सुनील दर्शन ने अपनी फिल्म ‘एक हसीना थी, एक दीवाना था’ के कथित कॉपीराइट उल्लंघन को लेकर दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी गूगल, उसके सीईओ सुंदर पिचाई और कंपनी के पांच अन्य कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। इस खबर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर फिल्म ‘एक हसीना थी, एक दीवाना था’ ट्रेंड करने लगा। लोग अपने जेहन पर जोर डालने लगे कि आखिर ये फिल्म है कौन सी, जिसे लेकर इतना धमासान मचा हुआ है। तो आइए हम आपकी मदद करते हैं।

फ्लॉप थी  ‘एक हसीना थी, एक दीवाना था’

सुनील दर्शन की फिल्म ‘एक हसीना थी, एक दीवाना था’ साल 2017 में सिनेमाघरों में रिलीज की गई थी। ये एक रोमांटिक ड्राम म्यूजिकल फिल्म थी, जिसमें उपेन पटेल ने मुख्य किरदार निभाया था। बॉक्स ऑफिस ऑफ इंडिया के मुताबिक ये उस साल की सबसे बुरी तरह फ्लॉप हुई फिल्मों में से एक थी। निर्माता सुनील दर्शन के बेटे शिव दर्शन लीड रोल में थे और फिल्म के रिव्यूज भी कुछ खास नहीं थे। कुल मिलाकर ये दर्शकों को इम्प्रेस करने में पूरी तरह से नाकाम नहीं थी। अब ये दावा किया जा रहा है कि यूट्यूब पर फिल्म के 1 बिलियन से अधिक व्यूज को ट्रैक किया गया है।

सुंदर पिचाई पर दर्ज हुई FIR

फिल्म निर्देशक एवं निर्माता सुनील दर्शन का कहना है कि,’ मैंने अपनी फिल्म ‘एक हसीना थी, एक दीवाना था’ के राइट्स न तो किसी को दिए थे और न ही इसे यूट्यूब पर रिलीज किया था। उन्होंने दावा किया कि बिना अनुमति के इस कंटेट का इस्तेमाल किया गया और उनकी फिल्म को अवैध रूप से अपलोड करके मोटी रकम बनाई गई। इस मामले में अबतक पिचाई के साथ यू-ट्यूब के हेड गौतम आनंद, शिकायत निवारण अधिकारी जो ग्रियर समेत गूगल के 6 कर्मचारियों का नाम एफआईआर में दर्ज है।

गूगल ने दिया ये जवाब

समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा के मुताबिक, भारत में गूगल के प्रवक्ता ने कहा कि अनधिकृत अपलोड की सूचना को लेकर वह कॉपी राइट स्वामियों पर निर्भर करता है और उन्हें अधिकार प्रबंधन टूल की पेशकश करता है। उन्होंने कहा कि कॉपी राइट उल्लंघन की सूचना मिलने पर वह सामग्री को तुरंत ही हटा देते हैं और एक से अधिक बार उल्लंघन करने वालों के अकाउंट बंद कर देते हैं।

लता मंगेशकर अभी भी आईसीयू में, हो रहा है सुधार

0

नई दिल्ली, लता मंगेशकर की स्वास्थ्य से जुड़ी एक नई जानकारी परिवार ने सोशल मीडिया के माध्यम से उनके चाहने वालों को दी हैl परिवार ने एक वक्तव्य जारी कर इस बारे में बताया हैl वक्तव्य में लिखा है, ‘लता मंगेशकर अभी भी मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती हैl वहां अभी भी उनका इलाज चल रहा हैl गुरुवार की सुबह उन्हें एक्स्तूबेशन का ट्रायल दिया गयाl डॉक्टरों के अनुसार उनकी सेहत में धीमी गति से सुधार हो रहा हैl इसके चलते वह डॉक्टर प्रतित समदानी की देखरेख में हैl’

लता मंगेशकर 92 वर्ष की है

लता मंगेशकर के लिए प्रार्थना कर रहे लोगों का परिवार ने इस अवसर पर आभार भी व्यक्त किया हैl लता मंगेशकर 92 वर्ष की हैl हाल ही में वह कोरोना से संक्रमित हुई थीl इसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गयाl वह तबसे डॉक्टरों की निगरानी में हैं और उनकी स्वास्थ्य से जुड़ा अपडेट लगातार आते रहता हैl हाल ही में खबर आई थी कि उनके स्वास्थ्य को लेकर सुधार हुआ हैl

लता मंगेशकर भारतरत्न पुरस्कार से सम्मानित गायिका है

डॉक्टरों ने हाल ही में उनकी सेहत को लेकर एक वक्तव्य जारी किया था, जिसमें उनकी सेहत को लेकर हो रहे दुष्प्रचार पर प्रतिक्रिया दी गई थीl लता मंगेशकर भारतरत्न पुरस्कार से सम्मानित गायिका हैl उन्होंने लाखों की संख्या में गाने गाए हैंl वह एक लोकप्रिय गायिका होने के साथ-साथ समाजसेवी भी हैंl

JTO Recruitment: USPC की इंजीनियरी सेवा परीक्षा से बने सकते हैं जूनियर टेलीकॉम ऑफिसर, ये होनी चाहिए योग्यता

0

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। JTO Recruitment: जूनियर टेलीकॉम ऑफिसर (जेटीओ) यानि कनिष्ठ दूरसंचार अधिकारी की सरकारी नौकरी पाने की इच्छा ज्यादातर युवाओं में होती है। भारत सरकार के संचार मंत्रालय के दूरसंचार विभाग और इसके अधीन सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) में जूनियर टेलीकॉम ऑफिसर की पदों पर समय-समय पर घोषित रिक्तियों के लिए भर्ती की जाती है। जेटीओ का पद ज्यादातर मामलों को में सर्किल आधारित कैडर में होता है और घोषित रिक्तियों के कैडर में चयनित उम्मीदवारों की नियुक्ति की जाती है। आमतौर पर कम से कम 5 वर्ष या निर्धारित अवधि तक सर्किल कैडर में तैनाती के बाद ऑल इंडिया कैडर में प्रोन्नति दी जाती है।

ऐसे होती है भर्ती

दूरसंचार विभाग और बीएसएनएल द्वारा जेटीओ पदों पर सीधी भर्ती की जाती है। हालांकि, जूनियर टेलीकॉम ऑफिसर की सरकारी नौकरी का एक और विकल्प है संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा हर वर्ष आयोजित की जाने वाली इंजीनियरी सेवा परीक्षा। आयोग द्वारा इंजीनियरिंग सर्विसेस एग्जाम के माध्यम से जूनियर टेलीकॉम ऑफिसर के ग्रुप बी (समूह ख) पदों पर भर्ती के लिए चयन प्रक्रिया आयोजित की जाती है। इस प्रक्रिया में अंतिम रूप से सफल घोषित उम्मीदवारों की लिस्ट प्रशिक्षण एवं नियुक्ति के लिए भारत सरकार के कार्मिक लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) को भेज दी जाती है।

यूपीएससी ईएसई में सम्मिलित होने के लिए योग्यता

यूपीएससी की इंजीनियरी सेवा परीक्षा के माध्यम से जेटीओ (ग्रुप बी) पदों पर भर्ती के लिए निर्धारित योग्यता के अनुसार उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या अन्य उच्च शिक्षा संस्थान से इलेक्ट्रॉनिकी एवं दूरसंचार इंजीनियरी में स्नातक डिग्री (बीई या बीटेक) उत्तीर्ण होना चाहिए। इसके अतिरिक्त उम्मीदवारों की आयु परीक्षा के वर्ष में 1 जनवरी को 21 वर्ष से कम और 30 वर्ष के अधिक नहीं होनी चाहिए। हालांकि, विभिन्न आरक्षित वर्गों (एससी, एसटी, ओबीसी, आदि) के लिए अधिकतम आयु सीमा में केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार छूट दी जाती है। अधिक जानकारी के लेटेस्ट यूपीएससी ईएसई नोटिफिकेशन 2021 देखें।

चयन प्रक्रिया

यूपीएससी ईएसई परीक्षा 2021 की अधिसूचना के अनुसार चयन प्रक्रिया तीन चरण होते हैं। पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा का आयोजित किया जाता है। जिसमें सफल घोषित उम्मीदवारों कों मुख्य परीक्षा और फिर व्यक्तित्व परीक्षण के लिए बुलाया जाता है।