ग़ज़िआबाद, 2जनवरी, 2021

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ दिल्ली सीमा पर एक महीने से ज्यादा वक्त से किसान आंदोलन कर रहे हैं। इसी बीच शनिवार (2 जनवरी) को दिल्ली गाजियाबाद बॉर्डर पर एक 75 वर्षीय किसान मृत पाए गए हैं। किसान यूनियन के नेता का दावा है कि ये एक सुसाइड केस है। मृतक किसान की पहचान कश्मीर सिंह लाडी के रूप में हुई है। जो उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के बिलासपुर के रहने वाले थे। किसान यूनियन के नेताओं का दावा है कि कश्मीर सिंह के शव के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है, जिसमें उन्होंने सरकार की आलोचना की है और अपनी अंतिम इच्छा के बारे में भी बताया है। गाजियाबाद पुलिस मामले की जांच कर रही है कि ये आत्महत्या का केस है या नहीं।

शौचालय में मिला किसान का शव

मृतक किसान कश्मीर सिंह का शव शौचालय में मिला। किसान यूनियन के नेताओं का दावा है कि गाजियाबाद के यूपी गेट पर कश्मीर सिंह ने शौचालय में शनिवार (2 जनवरी) को सुसाइड किया है। किसान यूनियन के नेताओं ने कहा है कि मृतक किसान कश्मीर सिंह लाडी का परिवार बेटा और पोता यहीं किसान आंदोलन में लगातार सेवा कर रहे हैं। बता दें कि किसान आंदोलन के दौरान कई किसानों की मौत हो चुकी है।

” ये सरकार सुन नहीं रही है और इसलिए अपनी जान दे रहा हूं”

NDTV में छपी रिपोर्ट के मुताबिक किसान यूनियन के नेताओं ने दावा किया है कि सुसाइड में लिखा था, ”आखिर हम कब तक यहां सर्दी में बैठे रहेंगे। ये सरकार सुन नहीं रही है और इसलिए अपनी जान देकर जा रहा हूं, ताकि कोई हल निकल सके।” दावे के मुताबिक सुसाइड नोट में कश्मीर सिंह ने यह भी लिखा है, ”मेरा अंतिम संस्कार मेरे पोते, बच्चे के हाथों यहीं दिल्ली यूपी बॉर्डर पर होना चाहिए।”

गाजियाबाद पुलिस अब इस पूरे मामले की जांच कर रही है। मृत किसान के पास से बरामद सुसाइड नोट भी अब पुलिस के कब्जे में है। सुसाइड नोट में किसान ने अपनी मौत के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।