नई दिल्ली, 30दिसंबर, 2020

सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए दिल्ली सरकार ने फ्री वायफाय की सुविधा शुरू की है। आम आदमी पार्टी के विधायक बुधवार को सिंघु बॉर्डर पहुंचे और उन्होंने वायफाय शुरू कराई। राघव चड्ढा ने कहा कि इंटरनेट आज के समय में रोटी, कपड़े की तरह जिंदगी की अहम जरूरत हो गई थी। हजारों किसान घरों से दूर यहां धरने पर हैं, इन लोगों को परिवार से जुड़ने के लिए नेट की जरूरत पड़ती है। ऐसे में दिल्ली की अरविंद केजरीवाल की सरकार ने ये फैसला लिया है।

चड्ढा ने कहा कि कमजोर नेटवर्क की वजह से किसान अपने घर-परिवार के लोगों को वीडियो कॉल नहीं कर पा रहे थे। इसकी शिकायत मिलने पर अरविंद केजरीवाल ने तुरंत इस पर ऐक्शन लिया और फिर उनके निर्देशानुसार इस दिशा में काम शुरू किया गया। अब किसानों की सुविधा के लिए वाईफाई हॉटस्पॉट लगा दिए गए हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार इस साल तीन नए कृषि कानून लेकर आई है, जिनमें सरकारी मंडियों के बाहर खरीद, अनुबंध खेती को मंजूरी देने और कई अनाजों और दालों की भंडार सीमा खत्म करने जैसे प्रावधान किए गए हैं। इसको लेकर किसान जून के महीने से लगातार आंदोलनरत हैं और इन कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। किसानों को कहना है कि ये कानून मंडी सिस्टम और पूरी खेती को प्राइवेट हाथों में सौंप देंगे, जिससे किसान को भारी नुकसान उठाना होगा।

केंद्र सरकार की ओर से लाए गए तीन नए कानूनों के खिलाफ बीते छह महीने से किसान आंदोलन कर रहे हैं। ये आंदोलन जून से नवंबर तक मुख्य रूप से हरियाणा और पंजाब में हो रहा था। सरकार की ओर से प्रदर्शन पर ध्यान ना देने पर 26 नवंबर को किसानों ने दिल्ली की और कूच करने का ऐलान कर दिया। इसके बाद बीते 34 दिन से किसान दिल्ली और हरियाणा को जोड़ने वाले सिंधु बॉर्डर पर धरना दे रहे हैं।