अयोध्या, 15 सितम्बर 2021

अयोध्या के हनुमान गढ़ी मंदिर के महंत धर्म दास ने कहा कि बॉलीवुड अभिनेताओं को राम लीलाओं में प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि उनके पास ‘नैतिक और धार्मिक अनुशासन’ नहीं है। उन्होंने कहा कि राम लीलाओं में प्रदर्शन करने वाले कलाकार अपने जीवन में सख्त अनुशासन का पालन करते हैं और लोग आशीर्वाद लेने के लिए उनके सामने झुकते हैं।

र्पिोटों के अनुसार, अयोध्या के लगभग 100 प्रमुख संतों ने मंगलवार को अयोध्या में हिंदू धार्मिक अध्ययन की एक महत्वपूर्ण सीट बड़ा भक्त माल मंदिर में मुलाकात की और ‘अनैतिक राम लीला’ पर प्रतिबंध लगाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने का फैसला किया।

महंत धर्म दास ने कहा, “अयोध्या में राम लीला की एक विशेष परंपरा है। पारंपरिक राम लीला में भगवान राम, माता सीता और अन्य पात्रों की भूमिका निभाने वाले कलाकारों का लोग सम्मान करते हैं। हम उनके सामने झुकते हैं। हम धार्मिक अनुशासन का पालन नहीं करने वाले बॉलीवुड अभिनेताओं का आशीर्वाद नहीं ले सकते हैं।”

बड़ा भक्त माल मंदिर के मुख्य पुजारी महंत अवधेश दास शास्त्री ने कहा, “हम अयोध्या में रामलीला में प्रदर्शन करने वाले ऐसे लोगों को बर्दाश्त नहीं कर सकते। वे शराब का सेवन करते हैं, मांसाहारी भोजन करते हैं और अनैतिक प्रथाओं में लिप्त होते हैं।”

हिंदू पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव महंत पवन कुमार दास शास्त्री ने बताया कि “पिछले साल, जब बॉलीवुड अभिनेताओं ने राम लीला का मंचन किया था, तो उन्होंने मंच पर ‘मुगल शेरवानी’ और चमड़े के जूते पहने थे। इतनी अश्लील पोशाक में कोई कैसे प्रदर्शन कर सकता है?”

बड़ा स्थान मंदिर के मुख्य पुजारी महंत जनमेजय शरण ने कहा, “हम चाहते हैं कि राम लीला में ‘सनातन धर्म’ का सार हो। हम हिंदू धर्म को नष्ट करने वाली फिल्मी हस्तियों को नहीं चाहते हैं।”

कार्यक्रम के निदेशक, सुभाष मलिक ने कहा कि भाग्यश्री मल्टी-स्टारर राम लीला में सीता की भूमिका निभाएंगी, कलाकारों में अभिनेता, अरबाज खान, रजा मुराद, अवतार गिल, विंदू दारा सिंह भी शामिल होंगे।

अयोध्या रामलीला समिति ने मंगलवार को सरयू तट पर भूमि पूजन किया और राज्य के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक की उपस्थिति में सितारों से सजी रामलीला की औपचारिक घोषणा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here