कोलकाता, 31 मार्च 2021

पश्चिम बंगाल में मंगलवार को दूसरे चरण का चुनाव प्रचार थम गया है। इसी चरण में पश्चिम बंगाल के सबसे बड़े संग्राम के लिए नंदीग्राम में वोटिंग होनी है। इसी नंदीग्राम में आज ममता बनर्जी ने नाटकीय अंदाज में दूसरे चरण के चुनाव प्रचार का समापन किया। 11 मार्च को पैर में चोट के बाद प्लास्टर बांधकर व्हीलचेयर पर प्रचार कर रहीं ममता बनर्जी पहली बार अपने पैरों पर खड़ी हुईं।

दूसरे चरण में प्रचार के आखिरी दिन ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में अपनी जनसभा में राष्ट्रगान के दौरान अपने पैरों पर खड़ी हुईं। पैर में चोट लगने के बाद ये पहला मौका था जब ममता बनर्जी सार्वजनिक रूप से पहली बार कहीं खड़ी दिखाई दीं। पैर में लगे प्लास्टर के साथ जब वह राष्ट्रगान के दौरान खड़ी हुईं तो उन्हें पार्टी नेता सुब्रत बख्शी और डोला सेना ने सहारा देकर खड़ा किया। राष्ट्रगान के दौरान टीएमसी सुप्रीमो अपने एक पैर पर खड़ी रहीं।

11 मार्च को लगी थी चोट

टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी के पैर में 11 मार्च को नंदीग्राम में एक रैली के दौरान चोट लग गई थी। ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि कुछ अज्ञात युवकों ने जानबूझकर उन्हें धक्का दिया जिससे उन्हें चोट लगी। तत्काल ममता बनर्जी को कोलकाता ले जाया गया जहां उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने बताया कि उनके पैर में गंभीर चोट है और उन्हें प्लास्टर चढ़ाया गया। हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद से ममता बनर्जी व्हीलचेयर पर हैं और उन्होंने अपनी रैली और रोडशो भी व्हीलचेयर पर ही किया है।

हाईप्रोफाइल सीट है नंदीग्राम

बंगाल की हाईप्रोफाइल सीट नंदीग्राम विधानसभा के लिए चुनावी प्रचार मंगलवार से थम गया। नंदीग्राम सीट टीएमसी से बागी बनकर भाजपा में आए सुवेंदु अधिकारी का गढ़ रही है। ममता बनर्जी ने ऐलान किया कि वह सुवेंदु अधिकारी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगी और उन्हें हराएंगी। अपने पुराने सिपहसलार से लड़ने के लिए ममता बनर्जी ने अपनी पारम्परिक भबानीपुर सीट छोड़ दी थी। इसके बाद से ही नंदीग्राम सीट बंगाल की सबसे हाईप्रोफाइल सीट बन गई है।