देहरादून, 24 मार्च 2021

एसीपी और स्टाफिंग पैटर्न का दोहरा लाभ लेने के मामले में पांच हजार कर्मचारी और पांच हजार पेंशनर्स से वसूली होगी। इसमें वो पेंशनर्स भी शामिल हैं, जो पहले रिटायर हो चुके हैं। नये करीब 500 पेंशनर्स की सेवा पुस्तिकाएं तो पेंशन निदेशालय ने विभागों को लौटा भी दी हैं। इसमें साफ किया गया है कि इन लोगों से पहले वसूली सुनिश्चित की जाए। इसके बाद पेंशन के लिए फाइल बढ़ाई जाए। शासन में वित्त विभाग का मानना है कि मिनिस्टीरियल कर्मचारियों ने अपनी सेवा के दौरान स्टाफिंग पैटर्न और एसीपी का दोहरा वित्तीय लाभ लिया है।

जिन भी लोगों ने ऐसा लाभ लिया है, उनसे वसूली के आदेश वित्त अनुभाग की ओर से पूर्व में किए गए। अब जमीनी स्तर पर कर्मचारियों को परेशानी पेश आ रही है। सीधे तौर पर जो हाल ही में कर्मचारी रिटायर हुए हैं, उन्हें दिक्क्त हो रही है। उनकी सेवा पुस्तिकाओं को पेंशन निदेशालय नोटिंग के साथ लौटा रहा है। सचिव वित्त अमित नेगी ने बताया कि वित्त विभाग ने आदेश पहले कर दिए थे। अब इन पर अमल होना है। जिन लोगों को भी दोहरा लाभ मिला है, उनसे ही वसूली होगी।

शासन ने वार्ता को बुलाया: मिनिस्टीरियल कर्मचारियों के अनिश्चितकालीन आंदोलन की चेतावनी को देखते हुए शासन ने बुधवार को कर्मचारियों को वार्ता के लिए बुलाया है। फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील कोठारी और महामंत्री पूर्णानंद नौटियाल ने बताया कि सचिव वित्त सौजन्या ने वार्ता को बुलाया है।

चार लाख रुपये तक होगी वसूली
कर्मचारियों से तीन से चार लाख के बीच वसूली होगी। इसमें कार्यरत कर्मचारियों के साथ ही हाल ही में रिटायर होने वाले कर्मचारी भी शामिल हैं। सबसे अधिक दिक्कत उन पेंशनर्स को आ रही है, जिन्हें रिटायर हुए एक-दो साल से अधिक हो गए हैं। उनके लिए ये पैसा लौटाना भारी साबित हो रहा है।