अयोध्या, 22 मार्च 2021

पहली बार अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर में होली पूरी भव्यता से मनाई जाएगी। यह पहली होली है जब राम लला की मूर्ति एक तंबू में नहीं बल्कि एक मंदिर में स्थापित की गई है।

राम जन्मभूमि मंदिर के मुख्य पुजारी, आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा, “राम लला तीन दशकों तक एक अस्थायी तम्बू के अंदर रहे और उन्हें उत्सव से दूर रखा गया। वह अपने जन्मस्थान की मुक्ति के बाद इस वर्ष भक्तों को आशीर्वाद देंगे।”

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य डॉ. अनिल मिश्रा ने कहा, “मुगल बादशाह बाबर के सेनापति मीर बाकी के 1528 में परिसर पर हमला करने के बाद, यहां होली का उत्सव धूमधाम और पारंपरिक तरीके से नहीं मनाया जाता था। पांच सौ साल बाद हम राम लला के दरबार में रंगों का त्योहार मनाएंगे। एक नए युग की शुरूआत हो गई है।”

राम लला के दरबार में उत्सव में प्राकृतिक रंगों और सुगंधित ‘गुलाल’ का इस्तेमाल किया जाएगा।

मंदिर परिसर के विभिन्न हिस्सों को फूलों से सजाया जाएगा, जो देश के विभिन्न हिस्सों से लाए गए हैं।

राम मंदिर ट्रस्ट ने होली के लिए किए जाने वाले अनुष्ठानों पर पुजारियों के साथ चर्चा शुरू कर दी है।

जश्न दोगुना हो जाएगा क्योंकि राम मंदिर का निर्माण भी शुरू हो गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर 2019 में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि हिंदुओं को सौंप दी थी, जो लंबे समय से लंबित विवातिद भूमि थी।