बढ़ रही स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें, यूपी के बाद अब मध्य प्रदेश में भी हुआ विरोध प्रदर्शन, एक और FIR दर्ज

102

लखनऊ: रामचरितमानस को लेकर जारी विवाद के बीच स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। इस बीच उनके खिलाफ गुरुवार को मध्य प्रदेश में भी एक एफआईआर दर्ज हुई। हिंदू महासभा के द्वारा ग्वालियर के क्राइम ब्रांच थाने में स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया गया है। क्राइम ब्रांच ने पूर्व कैबिनेट मंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद समेत 9 लोगों के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया है।

अन्य राज्यों में भी देखने को मिल रहा विरोध

आपको बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य की ओऱ से रामचरितमानस को लेकर की गई टिप्पणी का विरोध अब अन्य राज्यों में भी देखने को मिल रहा है। यह सियासी बवाल अब मध्य प्रदेश पहुंच चुका है। यहां हिंदू महासभा ने मौर्य के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन करते हुए 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाया। इन पर धार्मिक भावनाओं को भड़काने और समाज के में विद्वेष फैलाने का आरोप लगाया गया है। संगठन की ओर से की गई शिकायत पर क्राइम ब्रांच थाने में धारा 153ए के तहत केस दर्ज किया गया है। इस बीच ग्वालियर हिंदू महासभा ने यूपी में रामचरितमानस के अपमान को लेकर सीएम योगी को खून से खत भी लिखा है।

गिरफ्तारी न होने तक जारी रहेगा आंदोलन

महासभा की ओर से रैली निकालकर एसपी को ज्ञापन सौंपा गया। इस बीच मांग की गई कि यदि जल्द ही स्वामी प्रसाद मौर्य को गिरफ्तार नहीं किया जाता है तो हिंदू महासभा बड़ा आंदोलन करेगी। हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर सिंह के द्वारा यह भी ऐलान किया गया कि जब तक स्वामी प्रसाद मौर्य की गिरफ्तारी नहीं हो जाती है जब तक यह आंदोलन ऐसे ही जारी रहेगा। ग्वालियर में जिन 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाया गया है उसमें स्वामी प्रसाद मौर्य, देवेंद्र प्रताप यादव, यशपाल सिंह लोधी, सत्येंद्र कुशवाहा, नरेश सिंह, महेंद्र प्रताप यादव, एसएस यादव, संतोष वर्मा का नाम शामिल हैं। माना जा रहा है कि केस दर्ज होने के बाद मामले की छानबीन की जा रही है। कहा यह भी जा रहा है कि आने वाले दिनों में स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। जयवीर के द्वारा कहा गया कि ‘अगर आरोपियों को महाशिवरात्रि तक गिरफ्तार नहीं किया जाता है, तो 19 फरवरी को ऋषिकेश में संगठन की बैठक के बाद इस मुद्दे पर आंदोलन तेज किया जाएगा।’