नई दिल्ली, 9 अप्रैल 2021

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक लॉबिस्ट की तरह काम कर रहे हैं। शुक्रवार को प्रसाद ने कहा कि राहुल राजनेता तो पूरी तरह कभी नहीं बने लेकिन पेशेवर लॉबिस्ट बन गए हैं। वो विदेशी फार्मा कंपनियों के लॉबिस्ट की तरह से काम कर रहे हैं और उनका विदेशी वैक्सीन को मंजूरी देने की मांग करना ये साबित करता है। राहुल गांधी के वैक्सीन ना लगवाने को लेकर भी उन्होंने सवाल किया है। कोरोना टीकाकरण को लेकर राहुल गांधी की ओर से पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी के जवाब में प्रसाद ने ये कहा है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा, राजनेता के तौर पर असफल होने के बाद राहुल गांधी लॉबिस्ट हो गए हैं। उन्होंने फाइटर प्लेन बनाने वाली कंपनियों के लिए लॉबिंग की और भारत की डील (राफेल डील) को पटरी से उतारने की कोशिश की। अब वो विदेशी फार्मा कंपनियों के लिए लॉबिंग कर रहे हैं। राहुल गांधी को पता होना चाहिए कि कांग्रेस शासित राज्यों में वैक्सीन की कमी नहीं हैं, वहां काम के प्रति प्रतिबद्धता की कमी है। उन्हें अपनी पार्टी की सरकारों से टीकाकरण अभियान पर ध्यान देने के लिए कहना चाहिए। प्रसाद ने कहा कि भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी नहीं है। टीके की कमी सिर्फ राहुल गांधी को दिख रही है। वो पहले ये बताएं कि उन्होंने अभी तक टीका क्यों नहीं लिया है? क्या किसी विदेश यात्रा पर पहले ही वो टीका लगवा चुके हैं और इसका खुलासा नहीं करना चाहतो हैं?

राहुल ने लिखी है प्रधानमंत्री को चिट्ठी

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने मुख्य तौर पर कोरोना के बढ़ते मामलों और कई राज्यों में वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने को लेकर ध्यान देने को कहा है। राहुल ने कुछ सुझाव भी दिए हैं। राहुल ने कहा है कि जब खुद के देश के लोग वैक्सीन की कमी से जूझ रहे हैं तो हम दूसरे देशों को वैक्सीन क्यों दे रहे हैं। इसे रोका जाए और वैक्सीनेशन का फास्ट ट्रैक अप्रूवल हो। इसके अलावा वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को सभी के लिए उपलब्ध कराने की मांग भी राहुल गांधी ने की है।