नई दिल्ली, 27 दिसंबर 2020

नए कृषि कानूनों (Farm Laws) को वापस लेने की मांग पर अड़े किसानों के आंदोलन का आज (रविवार) 32वां दिन है. किसान आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज इस साल की आखिरी ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) की. अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में पीएम मोदी ने ‘वोकल फॉर लोकल’, कोरोनावायरस (Coronavirus) समेत सिखों के गुरु गोविंद सिंह का भी जिक्र किया. पीएम ने कहा, ‘हमारे देश में आतताइयों से, अत्याचारियों से, देश की हजारों साल पुरानी संस्कृति, सभ्यता, हमारे रीति-रिवाज को बचाने के लिए, कितने बड़े बलिदान दिए गए हैं, आज उन्हें याद करने का भी दिन है. आज के ही दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था.’

पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें, महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें. लेकिन, हमारे साहिबजादों ने इतनी कम उम्र में भी गजब का साहस दिखाया, इच्छाशक्ति दिखाई. दीवार में चुने जाते समय, पत्थर लगते रहे, दीवार ऊँची होती रही, मौत सामने मंडरा रही थी, लेकिन, फिर भी वो टस-से-मस नहीं हुए. इस शहादत ने संपूर्ण मानवता को, देश को, नई सीख दी. आज ही के दिन गुरु गोविंद सिंह जी की माता जी, माता गुजरी ने भी शहादत दी थी. लोग, श्री गुरु गोविंद सिंह जी के परिवार के लोगों के द्वारा दी गई शहादत को बड़ी भावपूर्ण अवस्था में याद करते हैं.’