कोलकाता, 9 फरवरी 2021

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी पार्टी छोड़कर भाजपा में जाने वालों के खिलाफ बोलने के दौरान अब आपे से बाहर होती दिखाई पड़ रही हैं। मंगलवार को एक रैली के दौरान उन्होंने ऐसे पूर्व पार्टी नेताओं को ना सिर्फ ‘गद्दार’ कहा है, बल्कि उनकी तुलना मीर जाफर से की है। मुर्शिदाबाद की एक रैली में उन्होंने सीधे-सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला है। गौरतलब है कि मुर्शीदाबाद में टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल होने वाले बंगाल के पूर्व मंत्री सुवेंदु अधिकारी का अच्छा प्रभाव माना जाता है। उन्होंने मुर्शिदाबाद के ब्रह्मपुर के अलावा बर्दवान जिले के अलीपुरद्वार में भी रैलियां की हैं।

बंगाल की जंग में प्लासी की लड़ाई की एंट्री

मुर्शिदाबाद की रैली में ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा है, ‘हमने मीर जाफर (मुर्शिदाबाद में ही मीर जाफर ने सिराजुद्दौला को धोखा दिया था, जिसके बाद भारत पर अंग्रेजों का राज कायम हुआ था।) जैसे गद्दारों को नहीं भुलाया है। हमें गद्दारों को कभी नहीं भूलना चाहिए। आप सबको उन्हें सबक सिखाना चाहिए। इनमें से कुछ भ्रष्टाचार में शामिल थे, अब बीजेपी में चले गए हैं……बीजेपी के वॉशिंग मशीन में जाकर वो साफ हो जाएंगे।’ ममता ने जोर देकर कहा कि इसबार सरकार बनाने में मुर्शिदाबाद और मालदा इन दोनों का बहुत ही अहम रोल रहने वाला है। गौरतलब है कि ममता बिना नाम लिए जिस नेता पर भड़ास निकाल रही थीं, उसमें से कद्दावर नेता सुवेंदु अधिकारी सबसे आगे हो सकते हैं, जिनका दोनों इलाकों में अच्छा दबदबा माना जाता है और हाल के वक्त में जिन्होंने भी टीएमसी छोड़ी है, उनमें अधिकारी परिवार से सत्ताधारी दल को चुनावों में सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचने की आशंका है।

भाजपा पर ममता की भड़ास

ममता बनर्जी ने यह भी कहा है कि बंगाल में उन्हीं की पार्टी सिर्फ भाजपा का मुकाबला कर सकती है। उनके मुताबिक, ‘कांग्रेस कहती रहेगी, लेकिन वह बीजेपी से नहीं लड़ सकती। सीपीएम भी बीजेपी की दोस्त है। बीजेपी ने कुछ मुस्लिम संगठनों को सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए भेजा है। अगर आप उन्हें वोट देंगे तो इससे बीजेपी को फायदा होगा।’ ममता ने नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम की ओर था, जिसने फुरफुरा शरीफ के मौलाना पीरजादा अब्बास सिद्दीकी नई-नवेली पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ गठबंधन किया है। इसके साथ ही उनका बीजेपी पर बंगाल की बाहर की पार्टी होने का आरोप लगाना भी जारी रहा और कहा कि बंगाल में वही राज कर सकता है, जो कि बंगाल का हो, ना कि जो गुजरात से आया हो। वो बोलीं- ‘बीजेपी बंगाल की पार्टी नहीं है……यह गुजराती पार्टी है, दंगा पार्टी है। यह ना तो हिंदुओं के हैं और ना ही मुसलमानों के…..। वह हरी-हरी कहते हैं और आम आदमी की चोरी में लगे रहते हैं। ‘

पीएम मोदी पर ममता का सीधा हमला

उन्होंने भाजपा ही नहीं केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि केंद्र के पास प्रवासी मजदूरों को ले जाने के लिए पैसे नहीं थे, लेकिन दल-बदलुओं को चार्टर्ड विमान से दिल्ली ले जाने के पैसे हैं। असल में पिछले महीने बंगाल के पूर्व वन मंत्री राजीब बनर्जी और टीएमसी के दूसरे नेता भाजपा में शामिल होने के लिए चार्टर्ड विमान से कोलकाता से दिल्ली गए थे। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर झूठ बोलने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘क्या आपने कभी पीएम को झूठ बोलते सुना है? हाल ही में पीएम ने कहा कि राज्य सरकार के कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिल रही है। मोदी बाबू मुझे दिखाइए कि किस राज्य के सरकारी कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिली है। आपको जवाब देना होगा कि बीएसएनएल, रेलवे को क्यों बेच रहे हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह पश्चिम बंगाल में कभी भी नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) को मंजूर नहीं करेंगी।