हरिद्वार, 1अप्रैल 2021

बढ़ते कोविड-19 संक्रमण के बीच उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में आज यानी (01 अप्रैल) से महाकुंभ मेले की शुरूआत हो गई है। कुंभ की शुरूआत बड़ी धूमधाम के साथ हुई है। इस दौरान कुंभ मेले में आए लाखों श्रद्धालुओं ने हर की पौड़ी पर आस्था की डुबकी लगाई। बता दें कि 30 अप्रैल तक चलने वाले इस महाकुंभ में स्नान के लिए श्रद्धालुओं को कोविड-19 की 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। बिना कोविड निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु गंगा स्नान नहीं कर पाएंगे।

दरअसल, कुंभ मेले की शुरूआत से ठीक एक दिन पहले यानी (31 मार्च) को हरिद्वार जिले में 32 श्रद्धालु कोरोना संक्रमित मिले थे। ये श्रद्धालु गीता कुटीर आश्रम में रूके हुए थे, जिनका कोरोना टेस्ट किया गया था। 32 श्रद्धालु संक्रमित मिलने के बाद मेला प्रशासन की चिंता बढ़ा गई हैं। तो वहीं, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आश्रम को सील कर दिया था। इससे पहले ताज होटल में 83 कोरोना के मरीज मिले थे। कोविड-19 के मामले सामने आने के बाद कुंभ मेले के आईजी संजय गुंजयाल ने कहा कि मैं सभी आश्रमों के संचालकों से कहना चाहता हूं कि आप सभी श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग जरूर कराएं। अगर किसी श्रद्धालु को सर्दी, बुखार जैसे लक्षण हैं तो वे तुरंत स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें।

कुंभ स्वास्थ्य मेलाधिकारी डॉ अर्जुन सिंह सेंगर का कहना है कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए टेस्टिंग की संख्या बढ़ा दी गई है। 12 अप्रैल के शाही स्नान से पहले श्रद्धालुओं का आगमन शुरू हो गया है। जिन श्रद्धालुओं में बीमारी के संदिग्ध लक्षण हैं, उनकी स्क्रीनिंग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा और उनका टेस्ट जरूर कराया जाएगा। वहीं, उन्होंने कुंभ मेला क्षेत्र में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क आदि कोरोना गाइडलाइंस का भी सख्ती से पालन कराने की बात कही है। इस मामले के बाद मठों और आश्रम आने वाले श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जा रही है।

12 राज्यों के श्रद्धालुओं की अनिवार्य रूप से होगी कोविड जांच

कोविड के लिहाज से अतिसंवेदनशील 12 राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं की कोरोना जांच अनिवार्य रूप से की जाएगी। संक्रमण की पुष्टि होने पर यात्री और उसके पूरे समूह को लौटा दिया जाएगा। शासन ने महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान से आने वाले यात्रियों को कोविड आरटीपीसीआर रिपोर्ट लाने की सलाह दी है। आरटीपीसीआर रिपोर्ट न होने पर सीमा पर इन राज्यों से आने वालों समूहों या परिवारों में से दो लोगों की एंटीजन जांच होगी। किसी के भी पॉजिटिव आने पर समूह को लौटा दिया जाएगा।