पटना, 16 फरवरी 2021

लोक जनशक्ति पार्टी के बागी नेता केशव सिंह ने बड़ा दावा किया है। उन्होंने पुष्टि करते हुए कहा कि 18 फरवरी को लोजपा का एक बड़ा धड़ टूट कर जदयू में मिल जाएगा। केशव सिंह के अनुसार लोजपा के 60 प्रमुख नेता 18 तारीख को जदयू की सदस्यता ग्रहण करेंगे, जिसमें 10 नेता पार्टी के पदाधिकारी होंगे। केशव सिंह ने कहा कि जब तक लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान थे, तब तक वे पार्टी के हर कार्यकर्ता कों साथ लेकर चलते थे, सबको मिलाकर चलते थे। लेकिन चिराग पासवान में ऐसी बात नहीं है। वे जब अध्यक्ष बने तो उन्होंने नारा दिया था ‘ बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट ‘ लेकिन अब वो पैसा फर्स्ट, पंजाबी फर्स्ट को ज्यादा तरजीह दे रहे हैं।

चिराग पासवान पर आरोप लगाते हुए केशव सिंह ने कहा कि लोजपा के फंड में भी चिराग पासवान घोटाला कर रहे हैं, जिन नेताओं ने सदस्यता अभियान चलाकर पार्टी फंड में पैसा जमा किया, उसका कोई हिसाब-किताब नहीं है।उन्होंने कहा कि 18 फरवरी को लोजपा के केशव सिंह, दीनानाथ क्रांति, रामनाथ रमन, पारसलाल गुप्ता, कौशल किशोर सिंह, सुभाष पासवान जैसे नेता जदयू में शामिल हो जाएंगे।

केशव सिंह ने बताया कि विधानसभा चुनाव से पहले चिराग पासवान ने कहा कि जो नेता अपने क्षेत्र में 25 हजार सदस्या बनाएंगे और दो-दो लाख रुपये पार्टी में जमा करेंगे, उन्हें चुनाव में टिकट दिया जाएगा। लेकिन जब चुनाव की बारी आई तो भाजपा के नेताओं को टिकट दे दिया। ये सबकुछ चिराग पीके के कहने पर कर रहे थे। जिन नेताओं ने अपना 20-20 साल का वक्त पार्टी को दिया, उसके साथ चिराग पासवान ने धोखा किया है। अब इस पार्टी को तोड़ कर ही दम लेंगे, क्योंकि चिराग ने कार्यकर्ताओं का भविष्य खराब किया है।

लोजपा के बागी नेता ने बताया कि सीएम नीतीश कुमार को चिराग पासवान जेल भेजने की बात कहते रहे हैं, लेकिन वे तो खुद पार्टी फंड घोटाला कर रहे हैं। सीएम नीतीश कुमार ने बिहार का विकास क्या है। हमलोगों ने कभी नहीं चाहा कि एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ें। लेकिन चिराग पासवान ने अपनी जिद में पार्टी का बेड़ा गर्क किया है।

वहीं लोजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने केशव सिंह के इस बयान पर टिप्पणी करते हुए कहा कि केशव सिंह को पार्टी से निकाल दिया है। वे बेबुनियाद बात कर रहे हैं। पार्टी पूरी तरह से चिराग पासवान के नेतृत्व में काम कर रही है। किसी नेता को कोई शिकायत नहीं है।