नई दिल्ली, 27जनवरी 2021

गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर निकाली गई किसान ट्रैक्टर रैली (Kisan Tractor Rally) के दौरान मचे बवाल और हिंसा को लकर आज किसानों की तरफ से चर्चा और मंथन किया गया. इस बैठक में किसान नेताओं की तरफ से कहा गया है कि जब किसान संगठनों ने 26 जनवरी को किसान परेड का कार्यक्रम घोषित किया तो दीप सिद्धू और उनके जैसे अन्य असामाजिक तत्वों और किसान संगठन ने किसान आंदोलन को शांत करने का प्रयास किया था.

 

साजिशन निर्धारित मार्च से दो घंटे पहले रिंग रोड पर मार्च करना शुरू कर दिया गया; मोर्चा

 

प्रमुख किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल, जगजीत सिंह डल्लेवाल और डॉ. दर्शन पाल ने कहा है कि साजिश के तहत किसान मजदूर संघर्ष समिति और अन्य व्यक्तियों ने घोषणा की कि वे रिंग रोड पर मार्च करेंगे और लाल किले पर झंडा फहराएंगे. षडयंत्र के सहारे किसान मजदूर संघर्ष समिति ने संघर्षरत संगठनों के निर्धारित मार्च से दो घंटे पहले रिंग रोड पर मार्च करना शुरू कर दिया. यह शांतिपूर्ण और मजबूत किसान संघर्ष को नाकाम करने की एक गहरी जड़ थी.

किसान नेताओं ने दीप सिद्धू एवं अन्‍य की कठोर निंदा की
संयुक्त किसान मोर्चा के सभी घटक दलों ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए संघर्षरत किसानों से अपील की कि वे धरना स्थलों पर रहें और शांतिपूर्ण विरोध जारी रखें. इस बैठक में किसान संगठनों ने इस आंदोलन को जारी रखने की बात कही और उक्‍त किसान संगठन और आंदोलन की छवि खराब करने की कोशिश करने पर दीप सिद्धू एवं अन्‍य की कठोर निंदा की.

अभी संयुक्‍त किसान मोर्चा की बैठक चल रही है
संगठनों ने भविष्य के कार्यक्रम को चाक-चौबंद करने के लिए भी 32 संगठनों की आपात बैठक बुलाई थी. बता दें कि अभी संयुक्‍त किसान मोर्चा की बैठक चल रही है.