टैक्सपेयर्स का पैसा कांग्रेस ने परिवार-रिश्तेदार-निजी जरूरत पर खर्च किया, अब भारत के अरब देशों से अच्छे संबंध

69

गांधीनगर। Gujarat Assembly Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव में दूसरे और अंतिम चरण के लिए प्रचार अभियान का आज अंतिम दिन है। शाम 5 बजे प्रचार अभियान समाप्त हो जाएगा। इसके बाद सोमवार, 5 दिसंबर को वोटिंग है। इस बीच, सभी राजनीतिक दलों ने जोरशोर से प्रचार किया और घोषणा पत्र में जनता को लुभाने वाले दावे तथा वादे किए हैं। हालांकि, कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निजी टिप्पणी भी की गई, जिसे सत्ताधारी दल ने अपमानजनक भी बताया। कांग्रेस को इन टिप्पणियों की वजह से आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा है। 

दूसरी ओर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाटन में रैली को संबोधित करते हुए शुक्रवार को कहा कि 2014 में एनडीए के नेतृत्व वाली भाजपा की सरकार बनने के बाद से सऊदी अरब जैसे इस्लामिक देशों के साथ भारत के संबंध मजबूत हुए हैं। अब जबकि अंतिम चरण की वोटिंग में केवल दो दिन हैं, कांग्रेस वोटिंग मशीन यानी ईवीएम के साथ छेड़छाड़ के आरोप लगा रही है। पार्टी का यह दावा साबित करता है कि गुजरात विधानसभा चुनाव में इन्होंने हार स्वीकार कर ली है। 

भारत ने इस्लामिक देशों से संबंध मजबूत किए  
प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए दावा किया कि कांग्रेस और उसकी सरकारों ने परिवार, रिश्तेदारों और निजी जरूरतों के लिए टैक्सपेयर्स यानी कर दाताओं का पैसा उड़ाया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने 2014 के बाद इस्लामिक राष्ट्रों से संबंध मजबूत किए हैं। यह मेरे लिए और साथ ही हर गुजराती के लिए गर्व की बात है कि संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई, सऊदी अरब और बहरीन जैसे इस्लामिक देशों ने मुझे अपने सर्वोच्च पुरस्कारों से सम्मानित भी किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अब तक सऊदी अरब में योग वहां के ऑफिशियल सेलाबस यानी आधिकारिक पाठ्यक्रम का हिस्सा भी है। 

कांग्रेस के शासन में अर्थव्यस्था काफी गिर गई 
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा बहरीन और अबू धाबी जैसे इस्लामिक देशों में भव्य हिंदू मंदिर भी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले परिवार को प्राथमिकता देती है, जबकि भाजपा इसके विपरित पार्टी की जगह पहले देश को आगे रखती है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जब 1947 में आजाद हुआ तब यहां की अर्थव्यवस्था छठें स्थान पर थी, मगर 2014 में जब कांग्रेस से सत्ता ली गई, तब यह अर्थव्यवस्था 10वें स्थान पर आ गई थी। हालांकि, भाजपा के शासन में आने के बाद 2014 से यानी बीते 8 साल में भारत की अर्थव्यवस्था 10वें से 5वें स्थान पर आ चुकी है। कांग्रेस ऐसा नहीं कर सकी, क्योंकि वह वंशवादी राजनीति कर रही थी। घोटालों में लिप्त थी और तुष्टिकरण को बढ़ावा दे रही थी।