कोलकाता, 23 जनवरी 2021

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में मई-जून में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. विधानसभा चुनावों (West Bengal Assembly Elections) से पहले नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Subash chandra bose) राजनीतिक गलियारों में हैं. बीजेपी और राज्य की सत्तासीन पार्टी तृणमूल कांग्रेस नेताजी सुभाष चंद्र बोस को सम्मान देने के लिए आगे आ रही है. नेताजी की 125वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता पहुंचे और उनकी शौर गाथा का वर्णन किया. वहीं, टीएमसी ने भी नेताजी की जयंती को भव्य तरीके से मनाया. नेताजी की जयंती पर उनकी बेटी अनिता बोस का बयान सामने आया है.

आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, अनित बोस का कहना है कि वो सुभाष चंद्र बोस को मिलने वाले सम्मान से काफी खुश हैं, लेकिन वह ये भी मानती हैं कि नेताजी को उचित सम्मान नहीं मिला है. अनिता बोस का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें सम्मानित किया ये देखकर मुझे खुशी है,ये मेरे पिता के लिए बहुत ही अच्छी बात है कि सालों बाद भी उन्हें सम्मानित किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि नेताजी को भारत के इतिहास के पन्नों में वो जगह कभी नहीं मिली. उन्होंने कहा कि आजादी के कुछ साल बाद तक बहुत सारे कागजात उपलब्ध नहीं थे. बाद में जब वो मिले तब मालूम पड़ा कि उनकी INA ने देश की आजादी में अहम रोल निभाया. इतना कुछ करने के बाद भी भारतीय इतिहास में उन्हें वो जगह नहीं मिली जिसके वो हकदार थे.

विधानसभा चुनावों में टीएमसी और बीजेपी के बीच नेताजी को लेकर हो रही खींचतान पर अनिता बोस ने कहा कि पश्चिम बंगाल में सभी पार्टियां नेताजी की विरासत का राजनीतिकरण कर रही हैं.