Home Authors Posts by Nav Morya

Nav Morya

56 POSTS 0 COMMENTS

सनातन के अपमान की होड़, उदयनिधि के बाद अब प्रियांक खरगे का विवादित बयान

बेंगलुरु। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन के बेटे उदयनिधि स्टालिन ने सनातन धर्म के खिलाफ एक ऐसा बयान दिया है, जिससे देशभर में हंगामा मच गया है। उदयनिधि के मुताबिक, सनातन धर्म मलेरिया डेंगू की तरह है जिसे मिटाना जरूरी है। इस बयान को लेकर एक तरफ जहां भारतीय जनता पार्टी डीएमके और विपक्षी गठबंधन पर हमलावर है। वहीं, उदयनिधि के समर्थन में भी कई नेता सामने आ रहे हैं।

प्रियांक खरगे ने किया उदयनिधि का बचाव

उदयनिधि स्टालिन की टिप्पणी पर कर्नाटक के मंत्री प्रियांक खरगे ने कहा,”कोई भी धर्म जो समानता को बढ़ावा नहीं देता है या यह सुनिश्चित नहीं करता है कि आपके पास मानव होने की गरिमा है, वह धर्म नहीं है।” कोई भी धर्म जो आपको समान अधिकार नहीं देता या आपके साथ इंसानों जैसा व्यवहार नहीं करता वह बीमारी के समान ही है।

इन नेताओं ने किया उदयनिधि स्टालिन के बयान का बचाव

बता दें कि प्रियांक खरगे से पहले आरजेडी नेता मनोज झा और पू्र्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम जैसे नेताओं ने उदयनिधि स्टालिन के बयान का समर्थन किया है।

कार्ति चिदंबरम ने उदयनिधि के बयान पर कहा कि सनातन धर्म एक कास्ट हायरार्कियल सोसायटी के लिए कोड के अलावा और कुछ नहीं है। जाति भारत का अभिशाप है।

वहीं, मनोज झा ने उदयनिधि का समर्थन करते हुए कबीर दास का एक दोहा दोहराया। उन्होंने कबीर के दोहे पड़ते हुए कहा-

जो तू ब्राह्मण ब्राह्मणी जाया, आन बाट काहे नहीं आया।

जो तू तुरुक तुरुक नी जाया, अंदर खतना क्यूं न कराया।

मनोज झा ने कहा कि क्या आज के समय कबीर दास ये कहते तो उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया जाता। हिंदुस्तान का एक मिजाज रहा है। कई लोगों को सनातन धर्म में कई विसंगतियां दिखती हैं।

जनआशीर्वाद यात्रा में नहीं बुलाए जाने से उमा भारती नाराज, शिवराज सरकार पर साधा निशाना

भोपाल। मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी द्वारा निकाली जा रही जनआशीर्वाद यात्रा में नहीं बुलाए जाने से सूबे की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती बेहद नाराज हैं। उन्होंने केंद्रीय मंत्री ज्योदिरात्य सिंधिया को लेकर शिवराज सरकार पर निशाना भी साधा है।

मैंने भी भाजपा को सरकार बनाने में मदद की

उमा भारती ने कहा कि अगर सिंधिया ने भाजपा की सरकार बनाने में मदद की है तो मैंने भी 2003 में प्रदेश में पार्टी की सरकार बनाकर दी थी। इसके अलावा, 2020 में हुए उपचुनाव में भी मैंने पार्टी के लिए प्रचार किया किया था और 28 में से 22 उम्मीदवार को जीत दिलाई थी।

भाजपा के लिए करूंगी प्रचार

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वे इसके बावजूद वे राज्य में भाजपा की सरकार बनाने के लिए प्रचार करेंगी। उन्होंने कहा, मुझे कोरोना हो गया था। मैं 11 दिन तक घर से बाहर नहीं निकल पाई थी। भाजपा ने मुझसे कहा कि आप प्रचार करें। मैंने मना नहीं किया।

उन्होंने कहा मैंने प्रचार किया और 28 में से 22 सीटों पर पार्टी उम्मीदवार को जीत मिली। वे कम से कम यात्रा में बुलाने की औपचारिकता तो निभाते। उनको लगता होगा कि अब तो हम सरकार बना लेंगे। यदि मैं आई तो जनता का ध्यान मुझ पर रहेगा। हालांकि, अगर वे मुझे प्रचार में बुलाएंगे तो मैं भाजपा का प्रचार करूंगी।

शराबबंदी को लेकर की शिवराज सरकार की सराहना

उमा भारती रविवार को राजधानी के अयोध्या नगर में स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर प्रांगण में एक पौधारोपण कार्यक्रम के पहुंचीं। इस दौरान उन्होंने महिलाओं के साथ मिलकर पौधे लगाए। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मप्र में शराबबंदी अभियान की शुरुआत अयोध्या नगर से ही की गई थी। उन्होंने शिवराज सिंह चौहान को शराबबंदी के लिए धन्यवाद भी दिया।

भाजपा की सरकार बनाने की अपील

उमा भारती ने लोगों से प्रदेश में भाजपा की सरकार बनाने की अपील की। हालांकि, यह भी कहा कि हम गांधीजी, पंडित दीनदयाल और पीएम मोदी के आदर्शों पर चलने के लिए पार्टी को विवश करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनाने के लिए मैं फिर मेहनत करूंगी।

सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ाएं

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी से अनुरोध है कि अपना वोट भाजपा को दें, लेकिन हर उम्मीदवार भी यह वचन ले कि सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाएंगे और सरकारी अस्पतालों में अपना और अपने परिवार का इलाज कराएंगे।

शादियों की फ़िज़ूल खर्ची और हमारे नेताओं का 5 स्टार होटलों में रुकना इसको मैं शुरू से ही ग़लत मानती हूँ। मोदी जी भी इस तरह की जीवनशैली को सख़्त नापसंद करते है। मैं आगे भी यह बातें कहती रहूँगी। हम गाँधी जी, दीनदयाल जी एवं मोदी जी की सीखों की अनदेखी नहीं कर सकते।

फिजूलखर्ची न करने की दी नसीहत

पूर्व मुख्यमंत्री इस संबंध में ट्वीट भी किए। उन्होंने एक ट्वीट में भाजपा कार्यकर्ताओं को नसीहत भी दी कि कोई भी भाजपा का नेता और कार्यकर्ता अपने बेटे-बेटियों के विवाह में फिजूलखर्ची न करें।

साढ़े छह वर्ष में नहीं हुआ एक भी दंगा, हर प्रकृति के अपराध में आई कमी: CM योगी

लखनऊ। उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले साढ़े छह वर्ष में प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हुआ। आज यहां सुरक्षा का माहौल है। एनसीआरबी के आंकड़े इस बात के गवाह हैं कि उत्तर प्रदेश में हर प्रकृति के अपराध में कमी आई है। उन्होंने कहा कि 2022 में हम कानून व्यवस्था को आधार बनाकर चुनाव के मैदान के गए थे और यह बहुत बड़ी बात है कि कानून व्यवस्था के मामले पर कोई सरकार दो तिहाई बहुमत के साथ रिपीट हो जाए।

इसमें बड़ी भूमिका आधी आबादी ने निभाई, जिन्हें सुरक्षा का बेहतर वातावरण मिला। आज महिलाएं प्रदेश में कहीं भी बिना भय के अकेले यात्रा कर सकती हैं। हमारी सरकार आधी आबादी के विश्वास को जीतने में सफल रही। सीएम योगी सोमवार को होटल ताज में आयोजित एक समाचार पत्र के कार्यक्रम ‘यूपी राइजिंग 10 साल 10 बदलाव’ को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि 2017 के पहले उत्तर प्रदेश को लेकर लोगों का परसेप्शन था कि यूपी का कुछ नहीं हो सकता, यूपी नहीं सुधर सकता, यूपी एक बीमारू राज्य है जो देश को बीमार कर रहा है। पिछले साढ़े छह वर्षों में हमारी सरकार देश और दुनिया में उत्तर प्रदेश के प्रति व्याप्त इस धारणा को बदलने में सफल रही।

आज उत्तर प्रदेश को लेकर लोगों में नकारात्मक सोच नहीं है। आज उत्तर प्रदेश सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ रहा है और यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की वजह से संभव हो पाया, जिन्होंने एक प्रकाश पुंज के रूप में उत्तर प्रदेश को नई दृष्टि दी। सीएम योगी ने कहा कि 2014 के पहले भारत के बारे में दुनिया की धारणा बहुत नकारात्मक थी। दुनिया का कोई भी देश भारत को गंभीरता से नहीं लेता था। देश की बागडोर प्रधानमंत्री मोदी के हाथों में आने के बाद भारत के प्रति दुनिया की धारणा बदली है।

उन्होंने कहा कि अब दुनिया भारत को सकारात्मक दृष्टि से देखती है और गंभीरता से लेती है। आज दुनिया में जब कोई संकट आता है तो भारत और प्रधानमंत्री मोदी संकट मोचक के रूप में दुनिया को संकट से निकालने में मदद करते हैं। आज उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक देश के अंदर एक विश्वास का माहौल उत्पन्न हुआ है कि देश का राजनैतिक नेतृत्व जो फैसला लेगा वो जनता और देश के हित में होगा।

सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में आज देश के लोगों में बाह्य, आंतरिक और आर्थिक सुरक्षा के मामले में एक विश्वास पैदा हुआ है। उन्होंने कहा कि आज कोई भी दुश्मन भारत की तरफ टेढ़ी नजरों से नहीं देख सकता है, क्योंकि उसको मालूम है कि अगर हम घुसपैठ करेंगे तो भारत के बहादुर जवान पूरी मुस्तैदी के साथ उसका जवाब देंगे। आज भारत के दुश्मनों को पता है कि भारत की सीमा में अतिक्रमण करने के क्या दुष्परिणाम हो सकते हैं।

आंतरिक सुरक्षा के मुद्दे पर सीएम योगी ने कहा कि एक समय देश के 120 जनपद नक्सलवाद और माओवाद की चपेट में थे। आज यह छत्तीसगढ़ के बस्तर और उसके तीन-चार जनपदों तक सीमित रह गया है और जिस तरह से भारत सरकार कार्य कर रही है शीघ्र ही यह पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा।

सीएम योगी ने कहा पिछले 9 वर्ष के अंदर हमने बहुत ही शानदार तरीके से भारत को बदलते देखा है। भारत ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में एक लंबी छलांग लगाई है। आज भारत दुनिया की 10वीं बड़ी अर्थव्यवस्था से छलांग लगाकर दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।

यही नहीं प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में 2027 आते-आते भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने भी पिछले साढ़े छह वर्ष के अंदर प्रति व्यक्ति आय को दोगुना करने में सफलता प्राप्त की है।

उत्तर प्रदेश जो देश की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था हुआ करता था। आज वह नंबर तीन की अर्थव्यवस्था बन चुका है। बहुत शीघ्र ही यूपी देश की दूसरे नंबर की अर्थव्यवस्था वाला राज्य होगा। इसकी घोषणा कभी भी हो सकती है।

सीएम योगी ने कहा कि लोकतंत्र का सबसे सशक्त माध्यम संवाद है। इससे बड़ी से बड़ी समस्या का समाधान निकाला जा सकता है। वहीं जहां संवाद का अभाव होता है, वहां संघर्ष प्रारंभ हो जाता है।

उन्होंने कहा कि विधायिका, न्यायपालिका और कार्यपालिका लोकतंत्र के तीन प्रमुख स्तंभ है। वहीं मीडिया को चौथे स्तंभ के तौर पर स्वीकार्य किया गया है। लोकतंत्र में इसकी अपनी सशक्त भूमिका है और निर्विवाद रूप से इसने अपनी इस भूमिका का निर्वहन किया है।

सीएम योगी ने कहा कि लोकतंत्र के इन चारों स्तंभों की अपनी लक्ष्मण रेखा है और जब भी कोई अपने लक्ष्मण रेखा का अतिक्रमण करेगा, उसके सामने विश्वास का संकट खड़ा हो जाएगा। जानता उसे सिरे से खारिज करने में देर नहीं लगाएगी।

ओडिशा में आकाशीय बिजली का कहर, 2 घंटे में 61 हजार बार गिरी; 12 की मौत

भुवनेश्वर। ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में आकाशीय बिजली ने कहर बरपाया है। 02 सितंबर शनिवार को लगभग दो घंटों में ओडिशा में 61 हजार बार बिजली गिरने से 12 लोगों की मौत हो गई और 14 घायल हो गए। बता दें कि भुवनेश्वर में सबसे ज्यादा आकाशीय बिजली गिरने की घटना सामने आई।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) द्वारा 7 सितंबर तक राज्य में चरम मौसम की चेतावनी जारी की गई है। तब तक इस तरह की स्थिति बनी रहेगी। बता दें कि देशभर में मौसम का चक्र पूरी तरह से बदला हुआ नजर आ रहा है। दिल्ली में जहां गर्मी हो रही है, वहीं मप्र सूखे की मार झेलने की स्थिति में आ गया है, जबकि ओडिशा में बारिश का कहर जारी है।

बंगाल की खाड़ी के ऊपर सक्रिय चक्रवाती सर्कुलेशन अगले 48 घंटों में कम दबाव वाले क्षेत्र में बदल सकता है और इसके प्रभाव से पूरे ओडिशा में बड़े पैमाने पर बारिश होने की संभावना है। IMD के अनुसार सप्ताह के अंत में बारिश की तीव्रता बढ़ने की संभावना है। IMD ने कहा है कि ‘7 सितंबर तक अधिकांश जिलों में भारी बारिश के लिए येलो अलर्ट जारी की गई है’

रिपोर्ट के मुताबिक भुवनेश्वर और इसके आसपास के इलाकों में शनिवार दोपहर बाद गरज के साथ लगातार बारिश जारी रही। इस दौरान आकाशीय बिजली भी गिरी। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर ओडिशा राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (OSDMA) ने कहा कि शाम 5.30 बजे तक करीब 61 हजार बार से अधिक बिजली गिरने की घटनाएं सामने आईं।

बता दें कि देशभर में मौसम का चक्र पूरी तरह से बदला हुआ नजर आ रहा है। दिल्ली में जहां गर्मी हो रही है, वहीं मध्यप्रदेश सूखे की मार झेलने की स्थिति में आ गया है, जबकि ओडिशा में बारिश का कहर जारी है।

40 सेंटीमीटर उठकर विक्रम लैंडर ने फिर से की सॉफ्ट लैंडिंग, ISRO ने बताया किक-स्टार्ट

बेंगलुरु। चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर ने फिर से चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग की। दरअसल, विक्रम लैंडर ने सफलतापूर्वक होप टेस्ट यानी जंप टेस्ट किया। इसके तहत इसरो की कमांड पर विक्रम लैंडर ने इंजन चालू किया और उम्मीद के मुताबिक खुद को 40 सेंटीमीटर उठाकर, फिर 30-40 सेंटीमीटर दूर पुनः लैंड करा दिया। इस प्रक्रिया को ISRO ने किक-स्टार्ट बताया है।

इसरो ने बताया क्यों अहम है ये होप टेस्ट

आज सोमवार को एक एक्स पोस्ट में इसरो ने बताया कि भविष्य में लैंडर के वापस लौटने और मानव मिशन के लिए इस प्रयोग के बेहद मायने हैं। इस प्रयोग के बाद लैंडर विक्रम के सभी सिस्टम सामान्य तौर पर काम कर रहे हैं।

टेस्ट के दौरान लैंडर पर पेलोड ChaSTE और ILSA को कमांड देकर फोल्ड किया गया और सॉफ्ट लैंडिंग के बाद फिर से तैनात किया गया। इसरो ने बताया कि इस प्रयोग के साथ ही चंद्रयान-3 मिशन ने उम्मीद से बढ़कर काम किया है।

रोवर ने पूरा किया काम

बता दें कि चंद्रयान-3 अपने उद्देश्य पूरे कर चुका है और इसका मिशन लगभग पूरा हो गया है। चांद पर अब रात ढलने लगी है और जल्द ही वहां अंधेरा हो जाएगा। इसरो ने बताया कि प्रज्ञान रोवर अपना काम पूरा कर चुका है और उसे सुरक्षित जगह पार्क कर स्लीप मोड में सेट किया गया है। चांद पर धरती के 14 दिन के बराबर एक दिन होता है और इतनी ही बड़ी रात होती है।

चांद के दक्षिणी ध्रुव पर रात के समय तापमान माइनस 238 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है। ऐसे में इतने कम तापमान में रोवर और लैंडर काम नहीं कर पाएंगे। जब चांद पर रात बीत जाएगी तो लैंडर और रोवर को फिर से सक्रिय करने की कोशिश की जाएगी लेकिन इसकी उम्मीद कम

है।

 

सनातन धर्म को खत्म करने की हसरत वाले खाक हो गए: उदयनिधि के बयान पर हंगामा जारी

नई दिल्ली। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन के बेटे और राज्य सरकार के मंत्री उदयनिधि स्टालिन के सनातन धर्म को लेकर दिए बयान पर हंगामा जारी है। इसे लेकर लगातार बयानबाजी हो रही है। अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी उदयनिधि के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म को खत्म करने की हसरत लिए कितने ही खाक हो गए।

अनुराग ठाकुर ने बोला हमला

पंजाब के फगवाड़ा में मीडिया से बात करते हुए उदयनिधि स्टालिन के बयान पर अनुराग ठाकुर ने कहा कि सनातन धर्म को खत्म करने वाले कितने ही खाक हो गए, हिंदुओं को खत्म करने वाले राख हो गए। घमंडिया गठबंधन के घमंडियों, सनातन था, सनातन है और सनातन रहेगा।

अनुराग ठाकुर ने कहा कि विपक्षी गठबंधन के नेताओं द्वारा लगातार सनातन धर्म और हिंदुओं के खिलाफ बयानबाजी की जा रही है। बंगाल में रामनवमी के जुलूस पर हमला होता है तो कोई विपक्षी नेता हिंदू धर्म पर जुबानी हमले कर रहे हैं, हिंदू आतंकवाद की बात कर रहे हैं, लेकिन देश की जनता इसका जवाब देगी।

भाजपा ने राहुल गांधी की चुप्पी पर उठाए सवाल

उदयनिधि स्टालिन की सनातन धर्म को लेकर की गई टिप्पणी पर भाजपा ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तीखा हमला बोला। पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा का उदयनिधि स्टालिन सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया से कर रहे हैं, लेकिन राहुल गांधी और नीतीश कुमार ने अभी तक इस पर चुप्पी साधी हुई है। राहुल गांधी सिर्फ चुनाव के दौरान, वोटबैंक के लिए ही हिंदू होते हैं। विपक्षी गठबंधन हिंदू विरोधी है, यह भारतीय संस्कृति और सनातन के खिलाफ हैं।

गोवा सीएम ने की सख्त कार्रवाई की मांग

वहीं उप्र के दौरे पर पहुंचे गोवा के सीएम प्रमोद सावंत ने उदयनिधि स्टालिन के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्हें (उदयनिधि स्टालिन) इस तरह के बयान नहीं देने चाहिए। उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

बयान पर जारी हंगामे के बावजूद उदयनिधि स्टालिन ने माफी मांगने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि वह अभी भी अपने बयान पर कायम हैं और कहा कि वह आगे भी कहते रहेंगे कि सनातन धर्म को खत्म कर देना चाहिए।

बता दें कि उदयनिधि स्टालिन ने तमिलनाडु में सनातन उन्मूलन सम्मेलन में बोलते हुए कहा कि सनातन धर्म सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है। कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता, उन्हें खत्म ही किया जाना चाहिए। हम डेंगू, मलेरिया का कोरोना का विरोध नहीं कर सकते, हमें इन्हें खत्म करना होगा। सनातन धर्म, सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है।

पाकिस्तान जिंदाबाद बोलने के माफ़ी मांगें मोहम्मद अकबर लोन: केंद्र की SC से अपील

नई दिल्ली। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता मोहम्मद अकबर लोन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल, केंद्र ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि लोन साल 2018 में जम्मू-कश्मीर विधानसभा में पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने के लिए माफी मांगें। बता दें, लोन मुख्य याचिकाकर्ता हैं, जिन्होंने पूर्ववर्ती राज्य जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले इस अनुच्छेद को रद्द करने के फैसले को चुनौती दी है।

पांच जजों से की अपील

मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की पीठ को केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मोहम्मद अकबर लोन को बताना होगा कि वह संविधान के प्रति निष्ठा रखते हैं। साथ ही उन्हें सदन में नारे लगाने के लिए माफी मांगना होगा।

पीठ में न्यायमूर्ति संजय किशन कौल, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना, न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत भी शामिल थे। पांच जजो वाली पीठ ने कहा कि अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट देखी है और अदालत में दी गई दलीलों पर भी ध्यान दिया गया है। जब लोन के जवाब की बारी आएगी तब उनसे बयान मांगा जाएगा।

अगर माफी नहीं मांगी तो…

सॉलिसिटर जनरल मेहता ने कहा कि वरिष्ठ नेताओं की ओर से आने वाले इन बयानों का अपना प्रभाव होता है। अगर माफी नहीं मांगी गई तो इससे दूसरों को प्रोत्साहन मिलेगा। इसका जम्मू-कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए उठाए गए कदमों पर असर पड़ेगा।

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया कि लोन को एक हलफनामा दायर करना चाहिए, जिसमें वह जम्मू-कश्मीर में नारे लगाने के लिए माफी मांगे। गौरतलब है, हाल ही में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं दायर की गई थी। एक याचिका नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता मोहम्मद अकबर लोन ने भी दायर की है।

अब कश्मीरी पंडितों के एक समूह ने सुप्रीम कोर्ट में मोहम्मद अकबर लोन की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया है। कश्मीरी पंडित समूह का दावा है कि याचिकाकर्ता मोहम्मद अकबर लोन अलगाववादी ताकतों के समर्थक हैं।

याचिकाकर्ता के पाकिस्तान समर्थक होने का दावा

सुप्रीम कोर्ट में कश्मीरी पंडितों के समूह ‘रूट्स इन कश्मीर’ ने एक हस्तक्षेप याचिका दायर की। इस याचिका में दावा किया है कि जम्मू कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता मोहम्मद अकबर लोन घाटी में संचालित होने वाली अलगाववादी ताकतों के समर्थक के तौर पर जाने हैं, जो पाकिस्तान का समर्थन करती हैं।

हस्तक्षेप याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता नंबर एक (मोहम्मद अकबर लोन) 2002 से 2018 तक विधानसभा के सदस्य थे और विधानसभा में ही ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगा चुके हैं।

चंद्रयान-3 के काउंटडाउन की आवाज़ हुई खामोश, ISRO वैज्ञानिक का हार्ट अटैक से निधन

बेंगलुरु। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) और देश के लोगों के लिए एक बुरी खबर है। इसरो की एक वैज्ञानिक अब नहीं रही हैं। भारत के मून मिशन चंद्रयान-3 के काउंटडाउन की गिनती करने वाली आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। वैज्ञानिक वलारमथी का हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया।

इसरो वैज्ञानिकों में शोक

कुछ मशहूर हस्तियों, राजनेताओं, स्टार्स और खेल हस्तियों की आवाज हमारे दिमाग में जिंदगी भर के लिए रह जाती हैं। ऐसी ही एक आवाज फीकी पड़ गई। वलारमथी, जिन्होंने चंद्रयान-3 मिशन लॉन्चिंग में अपनी अनूठी आवाज से घोषणाएं की वह रविवार शाम दुनिया को अलविदा कह गईं। उनके निधन से इसरो वैज्ञानिकों में शोक की लहर दौड़ गई है।

इस शहर में ली अंतिम सांस

तमिलनाडु के अरियालुर की रहने वालीं वलारमथी का निधन रविवार शाम को हो गया था। उन्होंने राजधानी चेन्नई में अंतिम सांस ली। इस साल 23 अगस्त को चांद के उत्तरी ध्रुव पर लैंड करने वाले चंद्रयान 3 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से 14 जुलाई को लॉन्च किया गया था। लॉन्चिंग के समय काउंटडाउन की सुनाई देने वाली गिनती को वलारमथी ने आवाज दी थी

सोशल मीडिया पर दुख

इसरो के पूर्व वैज्ञानिक डॉ. पीवी वेंकटकृष्ण ने वलारमथी के निधन पर शोक जताया। उन्होंने कहा कि श्रीहरिकोटा से इसरो के भविष्य के मिशनों की उलटी गिनती के लिए वलारमथी की आवाज अब सुनाई नहीं देगी। चंद्रयान-3 उनका अंतिम काउंटडाउन था। उन्होंने कहा कि वलारमथी के निधन की खबर से बहुत दुख हुआ। वहीं, सोशल मीडिया पर भी लोग अपना दुख व्यक्त कर रहे हैं।

चंद्रयान-3 मिशन की टीम में शामिल थीं वलारमथी

चंद्रयान-3 का विक्रम लैंडर 23 अगस्त को चांद की सतह पर उतरा था, जिससे भारत के नाम एक बड़ी उपलब्धि जुड़ गई। भारत दुनिया का चौथा देश बन गया, जिसने चांद पर अपने मिशन को सफल बनाया। इसके साथ ही दुनिया का इकलौता ऐसा देश बना जिसने साउथ पोल पर लैंडिंग कराई है। शनिवार को इसरो ने 11वें दिन प्रज्ञान रोवर को निष्क्रिय कर दिया। अब दोबारा 14 दिन बाद प्रज्ञान अपना काम शुरू करेगा।

आदित्य L-1 को लेकर ISRO ने दी बड़ी जानकारी, पहली बार अपनी कक्षा बदली

 भारत का आदित्य एल-1 अपने मिशन सूरज की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है. ISRO ने आदित्य एल-1 को लेकर बड़ा अपडेट दिया है. आदित्य एल-1 ने आज पहली बार अपनी कक्षा बदली है.
अब आदित्य एल-1 पृथ्वी से 22,459 किलोमीटर दूर है. इसे सूर्य की ओर पहली छलांग भी कहा जा सकता है.

बता दें कि 16 दिनों के दौरान आदित्य एल-1 पांचवी बार अपनी कक्षा बदलेगा. और फिर एल-1 प्वाइंट की ओर छलांग लगा देगा.

इसी के साथ ये भी बता दें कि सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 2 सितंबर को लॉन्चिंग के 63 मिनट और कुछ सेकेंड के बाद ही
आदित्य एल-1 पृथ्वी की कक्षा में स्थापित हो गया था.अब उसके थ्रस्टर में फायर करके इसकी कक्षा में परिवर्तन कर दिया जाएगा. अगली फायरिंग 5 सितंबर को की जाएगी. और 16 दिन में पूरे होने पर ये सूर्य की ओर प्रस्तान करेगा.
आदित्य एल-1 15 लाख किलोमीटर की दूरी 4 महीने में तय करेगा. और फिर लैंगरेंज पॉइंट-1 तक पहुंच जाएगा.ये ऐसा बिंदु है. जहां सूर्य और पृथ्वी की गैरिवीट बैलेंस हो जाती है. यहां पर किसी ऑब्जेक्ट को ठहरने के लिए ज्यादा ऊर्जा नहीं लगानी पड़ती.

जी20 के अधिकांश देशों में भारत की छवि अच्छी, लेकिन मोदी को लेकर मतभेद

एक नए सर्वे के मुताबिक जी20 के अधिकाश सदस्य देशों में भारत की छवि अच्छी है, लेकिन वहीं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर लोगों में  मतभेद है. खासकर यूरोपीय देशों की बात करें तो मोदी की छवी नकारात्मक है.

कई लोगों की पसंद

सर्वे की बात करें तो उसमें दिखाया गया है कि जी20 देशों में 46 प्रतिशत मध्य मूल्य लोगों के बीच भारत को प्रशंसा की नजर से देखा जाता है, लेकिन 34 प्रतिशत लोग भारत को नकारात्मक दृष्टि से देखता जाता है. बता दे कि यह सर्वे प्यू  रिसर्च केंद्र ने फरवरी से मई 2023 के बीच 24 देशों में करवाया और इसमें 30 हजार लोगों से सवाल पूछा गया.

अमेरिका में भारत की प्रशंसा, मोदी की नहीं

बता दे कि सर्वे में भाग लेने वाले अमेरिकी नागरिकों में आधे से ज्यादा लोगों ने भारत की प्रशंसा की, जबकि 44 प्रतिशत की राय इससे विपरीत थी. लेकिन जब सवाल व्यक्तिगत रूप से मोदी के बारें में किया गया तो. 21 प्रतिशत अमेरिकी लोगों ने उनके बारें में सकारात्मक राय व्यक्त की. वहीं 37 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हे मोदी पर भरोसा नहीं है.

यूरोप में गिरती लोकप्रियता

सर्वे में पाया गया कि यूरोप में भारत की लोकप्रियता गिर रही है. फ्रंस, स्पेन, जर्मनी, पोलैंड और ब्रिटेन- जिन देशों का पुराना डाटा उपलब्ध है-जिसमें 2008 के अपेक्षा भारत की लोकप्रियता 10 प्रतिशत तक गिरी है.

फ्रांस में बड़ा धक्का

भारत की छवि में सबसे बड़ी गिरावट फ्रांस में दर्ज की गई.  जहां सिर्फ 39 प्रतिशत लोगों के बीच भारत की प्रशंसात्मक छवि पाई गई. 15 साल पहले ऐसे लोगों का संख्या 70 प्रतिशत है.

मोदी में अविश्वास

सर्वे में इन 24 देशों में से 12 देशों के लोगों से मोदी के बारें में राय मांगी गई. जिसमें 40 प्रतिशत लोगों ने कहा की उन्हे मोदी पर वैश्विक मामलों में सही फैसला लेने का भरोसा नहीं है. जबकि 37 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हे मोदी पर भरोसा है.

सर्वे में रूस शामिल नहीं

जी20 में भारत के अलावा अमेरिका, रूस, जर्मनी,  चीन, कनाडा, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, फ्रांस, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मेक्सिको, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम और यूरोपियन यूनियन शामिल है. इस सर्वे में रूस, चीन, सऊदी अरब और तुर्की को शामिल नहीं किया गया था.